श्री रुद्राष्टकम् स्तोत्र (महाज्ञानी लंकेश रावण द्वारा भगवान् शिव की स्तुति हेतु रचित)

नमामीशमीशान निर्वाणरूपं विभुं व्यापकं ब्रह्मवेदस्वरूपम निजं निर्गुणं निर्विकल्पं निरीहं चिदाकाशमाकाशवासं भजेहम   हे भगवन ईशान को मेरा प्रणाम ऐसे भगवान

Read more

‘सबका मालिक एक’ विषय पर वार्ता संपन्न।

16 दिसम्बर 2016 को संसदीय सौध भवन मुख्य समिति हॉल नई दिल्ली में ब्रह्मकुमारी और नई दिल्ली टाइम्स के सहयोग

Read more

समय से बड़ा कोई नहीं हो सकता है..

जो समय के साथ चलता है समय भी उसके साथ चलता है। हममें से कितने ऐसे मनुष्य हैं जो इस कलयुग

Read more

हमें अपने उपर नियंत्रण रखना चाहिए।

हमारे जीवन में हमेशा वहीं नहीं होता जो हम चाहते हैं। हमें अपने जीवन में अपने से बड़े शक्ति का अहसास  बार

Read more