अब भाजपा के बूथ कार्यकर्ताओं को देनी होगी संघ को रिपोर्ट

रायपुर। छत्तीसगढ़ में विधानसभा चुनाव की तैयारी में उतरी भाजपा एक बार फिर संघ की शरण में है। विधानसभा चुनाव में मिशन 65 प्लस के लक्ष्य को लेकर मैदान में उतर रही भाजपा संगठन ने अपने बूथ कार्यकर्ताओं को संघ परिवार से नियमित संपर्क का निर्देश दिया है। इसके साथ ही संघ के पदाधिकारियों को बूथ स्तर पर सक्रियता की रिपोर्ट भी देनी है। इसका उद्देश्य यह पता करना है कि कार्यकर्ता इलाके में लोगों के संपर्क में हैं या नहीं।

प्रदेश संगठन महामंत्री पवन साय ने प्रदेशभर में भाजपा कार्यकर्ताओं के सबसे मजबूत, हमारा बूथ अभियान की समीक्षा में 15 सूत्री एजेंडा पेश किया। इसमें साफ है कि बूथ स्तर के कार्यकर्ता रोजाना संघ के प्रतिनिधियों, आला पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं से संपर्क करने की व्यवस्था करेंगे।

दरअसल, चुनावी वैतरणी को पार करने के लिए भाजपा को संघ के सहारे की जरूरत है। कई मौकों पर संघ की भाजपा पदाधिकारियों से नाराजगी सामने आई है। यही कारण है कि बस्तर से लेकर सरगुजा तक कार्यकर्ताओं को साफ निर्देश दिया गया है कि संघ के पदाधिकारियों की नाराजगी को दूर करें और उनके निर्देशों का बूथ स्तर पर पालन किया जाए।

भाजपा के आला नेताओं ने बताया कि कार्यकर्ताओं को सहकारी और डेयरी से जुड़े पदाधिकारियों से भी संपर्क करना है। इन पदाधिकारियों से संपर्क करके गांव-गांव में पार्टी की बात को पहुंचाना है। केंद्र की मोदी सरकार और राज्य की रमन सरकार की किसानों और सहकारी क्षेत्र में किए गए प्रावधानों की जानकारी देनी है। भाजपा की कोशिश है कि उस हर वर्ग के प्रमुख लोगों से संपर्क किया जाए, जो आम आदमी से सीधे संपर्क में है। मठ, मंदिर और आश्रम के पुजारी और प्रमुखों से नियमित संपर्क किया जाएगा।

ग्रामीण और आदिवासी क्षेत्रों में काम कर रहे एनजीओ, शहरी क्षेत्र की स्लम बस्तियों में काम कर रहे एनजीओ से भी बूथ स्तर के पदाधिकारी संपर्क करेंगे। भाजपा ने एक एनजीओ सेल भी बनाया है, जिसके माध्यम से उन लोगों तक पहुंचने की कोशिश की जा रही है। इसके अलावा आइटी सेल भी काम कर रही है जो वाट्सएप और सोशल मीडिया के सहारे लोगों तक पहळ्ंचने की कोशिश कर रही है।

*गांव में लगेगी चौपाल और करेंगे सरकार का बखान*

भाजपा के आला नेताओं ने बताया कि ग्रामीण क्षेत्र में पार्टी का जनाधार बढ़ाने के लिए नए उपाय किए जा रहे हैं। इस कड़ी में हर गांव में चौपाल लगाने का निर्देश दिया गया है। इस चौपाल में सरकार की उपलब्धियों का बखान किया जाएगा। इस चौपाल में पार्टी के स्थानीय स्तर के नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे। विधायक और सांसदों को भी बड़े गांवों में आयोजित चौपाल में आमंत्रित किया जाएगा और वे लोगों के बीच अपनी बात रखेंगे और उनकी बात भी सुनेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *