प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में सैमसंग फोन फैक्ट्री की उद्घाटन किये

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत में samsung द्वारा बनाये गए दुनिया के सबसे बड़े फोन फैक्ट्री की उद्घाटन किये. samsung के वाईस चेयरमैन जे वाई ली की उपस्थिति में भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी और दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति मून जे-इन द्वारा 9 जुलाई 2018 को नॉएडा में samsung mobile कारखाने के उद्घाटन के साथ हीं भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्मार्टफोन बाजार बन गया है। इस तरह उम्मीद है कि नोएडा में samsung mobile की यह फैक्ट्री देश में कम लागत पर फोन उपलब्ध कराने में सहायता तो देगी हीं, साथ हीं यह भारत में विकास को बढ़ावा देने के साथ हीं लाखों प्रत्यक्ष तथा अप्रत्यक्ष रोजगारों का भी सृजन करेगी।
भारत के प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा-भारत को मैन्युफैक्चरिंग हब बनाने की दिशा में आज का यह अवसर बहुत हीं विशेष है। 5 हज़ार करोड़ रुपये का ये निवेश न सिर्फ samsung के भारत में व्यापारिक रिश्तों को मजबूत बनायेगा, बल्कि भारत और कोरिया के संबंधों के लिए भी अहम सिद्ध होगा। आज भारत में 40 करोड़ स्मार्ट फ़ोन उपयोग में है, 32 करोड़ लोग ब्रॉडबैंड इस्तेमाल कर रहे हैं, बहुत कम दर पर इन्टरनेट डेटा उपलब्ध हैं, देश की 1 लाख से अधिक ग्रामपंचायतों तक फाइबर नेटवर्क पहुँच चूका है, ये सारी बातें देश में हो रही डिजिटल क्रांति का संकेत हैं। सस्ते मोबाइल फ़ोन, तेज़ इन्टरनेट, सस्ते डेटा के चलते आज फ़ास्ट और ट्रांसपेरेंट सर्विस डिलीवरी सुनिश्चित हुई है। samsung का ग्लोबल आर एन डी हब भारत में है और अब ये मैन्युफैक्चरिंग फैसिलिटी भी हमारा गौरव बढ़ाएगी।
मोदी ने कहा कि samsung की लीडरशिप से जब भी मेरी बात हुई है तो हमेशा मैंने उनसे भारत में निवेश के लिए प्रोत्साहित किया है, आज नॉएडा में हो रहा ये कार्यक्रम इसी का एक प्रतिबिम्ब है। जेम (जी इ एम) के जरिये सरकार अब सीधे उत्पादनकर्ता से सामान की ख़रीदी कर रही है। उनकी सरकार की मेक इन इंडिया पहल ने भारत को मोबाइल फोन का दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा निर्माता बनने के लिए प्रेरित किया है, क्योंकि मोबाइल फोन कारखानों की संख्या बीते चार साल में पहले के सिर्फ 2 से बढ़कर अब 120 हो गई है, और ख़ुशी की बात है कि जिसमें से 50 तो सिर्फ नॉएडा में हैं।
प्रधानमंत्री मोदी ने कहा -मेक इन इंडिया के लिए हमारा प्रयास सिर्फ हमारी आर्थिक नीति का हिस्सा हीं नहीं है,बल्कि दक्षिण कोरिया जैसे देशों के साथ द्विपक्षीय संबंधों की प्रतिबद्धता भी है। आज भारत में विनिर्माण के लिए वैश्विक केंद्र बनाने में एक महत्वपूर्ण दिन है। आज यह कदम नागरिकों को सशक्त बनाने के अलावा मेक इन इंडिया को गति प्रदान करेगा … यह उत्तर प्रदेश और भारत के लिए गर्व का विषय है।
सैमसंग इंडिया के मुख्य कार्यकारी अधिकारी एचसी हांग ने एक बयान में कहा, -कारखाना 120 मिलियन से अधिक फोन का निर्माण करेगा, जो 67 मिलियन यूनिट की मौजूदा क्षमता लगभग दोगुनी है। दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल फैक्ट्री नोएडा की यह फैक्ट्री, भारत के लिए सैमसंग की मजबूत प्रतिबद्धता का प्रतीक है, और सरकार के मेक इन इंडिया कार्यक्रम की सफलता का एक चमकदार उदाहरण है। सैमसंग भारत का दीर्घकालिक साझेदार है। हम मेक इन इंडिया, मेक फॉर इंडिया; और अब, हम मेक फॉर द वर्ल्ड करेंगे। हम सरकारी नीतियों के साथ गठबंधन हैं और मोबाइल फोन के लिए भारत को वैश्विक निर्यात केंद्र बनाने के हमारे सपने को हासिल करने के लिए अपना समर्थन खोजना जारी रखेंगे।

अंतर्राष्ट्रीय डेटा निगम के एक सहयोगी शोध निदेशक नवकेंद्र सिंह ने कहा – यह एक कदम है जो सैमसंग के लिए स्पष्ट रूप से अच्छी तरह से भूमिका तो निभाएगा हीं लेकिन यह भारत के मोबाइल विनिर्माण पारिस्थितिक तंत्र को एक बहुत ही आवश्यक शॉट भी देता है, क्योंकि यह स्थानीय उत्पादन को बढ़ाने पर विचार करने के लिए प्रतिद्वंद्वियों को एक प्रतिस्पर्धात्मक प्रेरणा देगा।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री – योगी आदित्यनाथ, वाणिज्य और उद्योग मंत्री -सुरेश प्रभु, और सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के वरिष्ठ अधिकारी     ( उपाध्यक्ष) जे वाई ली, उपाध्यक्ष बीके यून और आईटी और मोबाइल संचार के सीईओ और अध्यक्ष डीजे कोह समेत कई अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उद्घाटन में मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *